Friday, 19 August 2011

Dungarpur - Dresses and school material distributed by Pensioner Society to poor children

शिक्षा को मिला संबल
- निर्धन बच्चों को मिली गणवेश
- राजस्थान पेंशनर समाज बना भामाशाह

- आओ पढ़ाए, सबको बढाएं अभियान

कार्यालय संवाददाता @ डूंगरपुर
शिक्षा की डगर पर चलने की उनकी ललक इतनी थी कि तन पर फटे-चिथड़े कपड़ों की परवाह किए बगैर वे धूप-गर्मी और वर्षा सब-कुछ सहन करने के बावजूद रोज स्कूल आते। इन बच्चों को किसी मजबूत सबलन की आवश्यकता थी। ऐसे में शिक्षा के प्रति समर्पित इन बच्चों के लिए राजस्थान पत्रिका के आह्वान पर राजस्थान पेंशनर समाज ने गुरुवार को बच्चों को गोद लिया और उन्हें हाथों-हाथ गणवेश बांटे।
राजस्थान पत्रिका और मीडिया एक्शन ग्रुप के आओं पढ़ाए, सबकों बढ़ाए अभियान के तहत राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय राजपुर में अत्यंत निर्धन परिवारों के एक साथ 15 बच्चों को पेंशनर समाज की ओर से गणवेश बांटी गई। कार्यक्रम में समाज के प्रदेश प्रतिनिधि भुवनेश्वर चौबीसा, जिलाध्यक्ष नानूराम माली, नगर अध्यक्ष विमलप्रकाश चौबीसा, सुरेशचन्द्र टेलर, ठाकुरदास माखिजा, विश्वकृष्ण द्विवेदी, गंगेश्वर उपाध्याय, कालूसिंह, रामेश्वर सोमपुरा एवं रामलाल पाटीदार सहित निर्मला श्रीमाल, कोकिला साद, राहिला खान, चन्द्रलेखा चौबीसा शामिल हुए। संचालन अध्यापिका स्वाति शुक्ला ने किया। आभार प्रधानाध्यापक दिनेशचन्द्र चौबीसा ने व्यक्त किया।

पत्रिका की पहल अनूठी
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए पेंशनर चौबीसा ने कहा कि पत्रिका की यह पहल अनूठी है। इससे शिक्षा को सम्बलन मिला है। जिलाध्यक्ष माली ने कहा कि शिक्षा से ही विकास संभव है। जनजाति बहुल के इस पिछड़े जिले में पहले पत्रिका की और से बच्चों को विद्यालयों से जोडऩे की मुहिम शुरू की गई और अब यह सम्बलन साधुवाद का पात्र है। नगर अध्यक्ष चौबीसा ने कहा कि पेंशनर समाज सामाजिक सरोकारों से जुड़ा हुआ है। समाज आगे भी शैक्षिक जागृति के लिए प्रयासरत रहेगा।

No comments:

Post a comment