Friday, 22 July 2011

Dungarpur - with 76 new admission figure reached at 1051...


नामांकन का नया रिकार्ड

- आंकड़ा एक हजार पार
- विद्यालयों से जुड़े 76 नए बच्चों के साथ आंकड़ा पहुंचा 1051 पर
- आओं पढ़ाएं, सबको बढ़ाएं अभियान
कार्यालय संवाददाता @ डूंगरपुर
अधिक से अधिक बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा से जोडऩे के लिए शिक्षा के कानून अधिकार के तहत राजस्थान पत्रिका और मीडिया एक्शन ग्रुप के तत्वावधान में चलाया  गया ‘आओं पढ़ाएं, सबको बढ़ाएं’ अभियान जनजाति बाहुल्य के पिछले जिले के लिए मील का पत्थर बनता जा रहा है। अभियान से लगातार बन रहे शैक्षिक वातावरण से राजकीय और निजी विद्यालयों में नामांकन के नए रिकार्ड स्थापित हो रहे हैं। अभियान के तहत अलग-अलग विद्यालयों में गुरुवार को कुल 76 बच्चों का नामांकन होते ही आंकड़ा 1051 पर पहुंच गया है।

शिक्षा का कारवां
डूंगरपुर। अभियान के तहत बिलड़ी के राजकीय माध्यमिक विद्यालय में संस्थाप्रधान शिशुपाल जैन एवं शिक्षक मोहनलाल यादव के सहयोग से 15 बच्चों को प्रवेश दिया। इसमें चार बच्चे ड्राप-आउट एवं अनामांकित भी थे।
साबला के राप्रावि में संस्थाप्रधान अमृतलाल कलासुआ, बालुराम मीणा, कृष्णा जावरिया एवं शीला श्रीवास्तव के सहयोग से 23 छात्र-छात्राओं को प्रवेश दिया। इसी तरह राउप्रावि वरवासा माफी में पूर्व सरपंच मोतीलाल, हेमेन्द्र चौबीसा, रामेश्वर मीणा, थावरचंद मीणा, कार्यवाहक संस्थाप्रधान पेमजी पाटीदार सहित पवनकुमार बरगोट, भानूप्रकाश मीणा एवं नटवरलाल मीणा के सहयोग से सात बच्चों को बच्चे दिलाया गया।
पिण्डावल के रामावि लोड़ावल में प्रधानाध्यापक मोहनसिंह राठौड़ के सहयोग से 22 बच्चों को प्रवेश दिलाया गया। इस मौके पर सचिव विजय जोशी, वेणीलाल कटारा, कमलाशंकर मीणा, शारीरिक शिक्षक परशुराम भावसार, धुलेराम गोंदावत शामिल हुए। इसी तरह नवज्योति पब्लिक प्राथमिक विद्यालय काब्जा में प्रधानाध्यापक कमलेश त्रिवेदी ने शिक्षा के कानून अधिकार के तहत दस बच्चों को प्रवेश दिलाया। प्रधानाध्यापक ने पत्रिका के अभियान की सराहना की। इस मौके पर रतिका त्रिवेदी, प्रतिभा जोशी, नेहा जैन, लोकेश बुनकर, प्रदीप सेवक, कुलदीप जैन, संजय, हितेश, हरीश त्रिवेदी शामिल हुए।

No comments:

Post a comment